Mission Indradhanush Yojana In Hindi – मिशन इन्द्रधनुष

By | October 16, 2018

मिशन इन्द्रधनुष – Mission Indradhanush Yojana In Hindi भारत के लिए शिशु मृत्यु दर घटाना आज भी एक गंभीर चुनौती बना हुआ है। शिशु मृत्यु दर की एक प्रमुख वजह वैसी बीमारी भी है जिसे रोका जा सकता था। कई बीमारियों की रोकथाम के लिए शिशुओं एवं गर्भवती महिलाओं में वर्षों से टीका करण अभियान चलाया जा रहा है, पर सभी बच्चों में सम्पूर्ण टीका करण कराना आज भी एक चुनौती बना हुआ है। इसी चुनौती से निपटने के लिए मौजूदा भारत सरकार ने 15 दिसंबर 2014 को मिशन इन्द्रधनुष  – Mission Indradhanush Yojana की शुरुआत की।Mission Indradhanush Vaccine Schedule (Indradhanush Vaccination Schedule) मिशन इन्द्रधनुष के तहत देश के बच्चों में पूर्ण टीका करण कराना है। योजना के तहत वैसी सात बीमारियों से बचाव के लिए टिके लगाए जाएंगे जो बीमारी टीका नहीं लगने की वजह से जानलेवा साबित हो सकते हैं।

Mission Indradhanush Yojana

Mission Indradhanush Yojana In Hindi

ये सात बीमारियां निम्नलिखित है जिनसे बचाव के लिए टिके लगाए जाएंगे।

  1. डिप्थीरिया
  2. काली खांसी
  3. टेटनस
  4. पोलियो
  5. टीबी
  6. खसरा
  7. हेपेटाइटिस बी

ये सारी ऐसी बीमारियां हैं जिनसे आसानी से बचा जा सकता है। अगर जन्म के समय से ही नियमित अंतराल पर टिके लगवाते रहें तो इन बीमारियों से बचा जा सकता है।Mission Indradhanush Yojana मिशन इन्द्रधनुष के तहत इन सातों बीमारियों से बचने के लिए बच्चों में नियमित अंतराल पर टिके लगाए जाएंगे।Mission Indradhanush योजना के तहत 2020 तक देश भर के बच्चों में पूर्ण टीका करण कराने का उद्देश्य रखा गया है। योजना को मुख्य रूप से ऐसे क्षेत्रों में चलाने की योजना है जिन क्षेत्रों में टीका करण बहुत ही कम हुआ हो। स्वास्थ्य विभाग द्वारा ऐसे क्षेत्रों का टीका करण डाटा जुटाना है। ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित किया जाएगा जिन क्षेत्रों में टीका करण का प्रतिशत बहुत ही कम हो। वैसे बच्चे जिन्हें आंशिक रूप से टीका करण कराया गया हो उन्हें भी बाकी बचे टिके लगा कर पूर्ण टीकाकरण कराया जाएगा।

मिशन इन्द्रधनुष योजना (Mission Indradhanush Yojana) को कई चरणों में लागू किया गया है, हम आपको उन चरणों के बारे में भी बताएंगे। पहले हम आपको इस योजना से जुड़ी मुख्य बातें बताते है।

Check More Yojana Details –

Mission Indradhanush Yojana Details

मिशन इन्द्रधनुष Mission Indradhanush से जुड़ी मुख्य बातें।

  • बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार एवं उनका बेहतर भविष्य सुनिश्चित करना सरकार का उद्देश्य है।
  • बच्चों को बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करने के उद्देश्य से इस मिशन की शुरुआत की गई।
  • देश में मातृ मृत्यु एवं शिशु मृत्यु दर को घटाने के लिए चलाए जाने वाली योजनाओं में मिशन इन्द्रधनुष एक महत्वपूर्ण अंग है।
  • Mission Indradhanush योजना के तहत 2 वर्ष तक के आयु के बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं तक टीका करण पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है।
  • क्षेत्र राष्ट्रीय सर्वेक्षण, स्वास्थ्य प्रबंध सूचना प्रणाली डाटा एवं विश्व स्वास्थ्य संगठन से प्राप्त आँकड़ों के आधार पर ऐसे क्षेत्रों का चयन किया जाएगा जहां टीकाकरण का प्रतिशत बहुत ही कम हो।
  • ऐसे जिलों में सघन टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा जिन जिलों में सम्पूर्ण टीकाकरण 50 प्रतिशत से कम हो।
  • एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रवास करने वाले शहरी झुग्गी-झोपड़ियों और उप-केंद्रों में ऐसे क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा, जहां टीकाकरण या तो नहीं हुआ या उसका प्रतिशत बहुत कम है।
  • मिशन इन्द्रधनुष योजना की निगरानी के लिए जिला स्तर, राज्य स्तर एवं राष्ट्रीय स्तर पर निगरानी टीम गठित की गई है।
  • मिशन इन्द्रधनुष योजना को सफल बनाने के लिए गांव की आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, राष्ट्रीय शहरी जीविका मिशन एवं स्वयंसेवी संगठनों को साझेदार बनाया गया है।
  • इस Mission Indradhanush Yojana के तहत दिसंबर 2018 तक 90 प्रतिशत क्षेत्रों में सम्पूर्ण टीकाकरण संपन्न कराने का लक्ष्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा रखा गया है।
  • अक्टूबर 2017 से जनवरी 2018 तक प्रति महीने मिशन इन्द्रधनुष कार्यक्रम को युद्धस्तर पर सर्वोच्च प्राथमिकता वाले जिलों में चलाया गया।
  • भारत में नियमित टीकाकरण बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय ने विदेशी साझेदारों से सहयोग प्राप्त करने का फैसला किया है।

Mission Indradhanush Area Selected

मिशन इन्द्रधनुष के तहत क्षेत्रों का चयन।

2015 में मिशन के पहले चरण के तहत लगभग 201 एवं दूसरे चरण के तहत 297 जिलों का चयन किया गया। वैसे जिलों को प्राथमिकता दी गई जिन जिलों में पूर्ण टीकाकरण 50 प्रतिशत से कम थी। इनमें ज़्यादातर क्षेत्र ऐसे थे जिनमें खराब भौगोलिक परिस्थिति , नक्सलवाद एवं अन्य चुनौतियों की वजह से पूर्ण टीकाकरण नहीं हो सका था। उच्च प्राथमिकता वाले जिलों में 82 जिले सिर्फ 4 राज्यों उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान एवं बिहार में थे।

Mission Indradhanush Vaccine Schedule (Indradhanush Vaccination Schedule)

मिशन इन्द्रधनुष को क्षेत्रों के अनुसार 3 चरणों में लागू किया गया है।

  • पहला चरण

Mission Indradhanush Yojana योजना के पहले चरण में स्वास्थ्य मंत्रालय ने  भारत के सभी राज्यों से 201 जिलों का चयन किया। इन जिलों के बच्चों में या तो आंशिक रूप से टीकाकरण हुआ या फिर कभी टीकाकरण हुआ ही नहीं था। पहले चरण की शुरुआत 7 अप्रैल 2015 को हुई जिसे 4 हिस्सों में विभाजित किया गया। पहले हिस्से की शुरुआत 7 अप्रैल से हुई, जो कि 14 अप्रैल तक चला। दूसरे,तीसरे एवं चौथे हिस्से की शुरुआत क्रमशः मई, जून एवं जुलाई महीने के प्रत्येक 7 तारीख से शुरु किया गया जो कि 1 हफ्ते तक आयोजित की गई थी।

पहले चरण के इन चारों हिस्सों में लगभग 9.5 लाख टीकाकरण सत्र लगाए गये। पहले चरण में 75 लाख बच्चों को टीका लगाया गया। जिनमें लगभग 20 लाख बच्चों का पूर्ण टीकाकरण किया गया एवं 20 लाख गर्भवती महिलाओं को भी टेटनस के टिके लगाए गए। डायरिया से सुरक्षा हेतु बच्चों के बीच 57 लाख से भी ज्यादा जिंक टेबलेट्स और 16 लाख से भी ज्यादा ORS पैकेट्स मुफ्त में बांटे गए।

  • दूसरा चरण

मिशन इन्द्रधनुष Mission Indradhanush Yojana के दूसरे चरण को 7 अक्टूबर 2015 को लागू किया गया। दूसरे चरण में 352 जिलों का चयन किया गया। दूसरे चरण में चयनित 352 जिलों में से 73 जिलों को उच्च प्राथमिकता वाले जिलों में शामिल किया गया है। दूसरे चरण को भी 4 हिस्सों में बांट दिया गया। सभी हिस्सों को पहले चरण के आधार पर प्रत्येक महीने की 7 तारीख से शुरु किया गया। जिसमे आखरी हिस्से की शुरुआत 7 जनवरी 2016 को किया गया।

दूसरे चरण में करीब 35 लाख बच्चों का टीकाकरण कराया गया। जिनमें से 10 लाख बच्चों का पूर्ण टीकाकरण कराया गया। 9 लाख गर्भवती महिलाओं को भी टेटनस का टीका लगाया गया। दूसरे चरण के तहत वैसे जिलों में भी टीकाकरण कैंप लगाया गया जिन जिलों में पहले चरण के तहत भी पूर्ण टीकाकरण नहीं कराया जा सका था।

  • तीसरा चरण

पहले और दूसरे चरण की सफलता के बाद तीसरे चरण की शुरुआत की गई। तीसरे चरण में पहले एवं दूसरे चरण में चयनित जिलों में फिर से टीकाकरण कैंप लगाया गया।  वैसे बच्चे जिनका पहले कभी टीकाकरण नहीं हो सका था उनके टीकाकरण की शुरुआत पहले एवं दूसरे चरणों में किया गया था, जिस वजह से पिछले 2 चरण में उनका पूर्ण टीकाकरण नहीं हो सका था। उन बच्चों का तीसरे चरण में पूर्ण टीकाकरण कराया गया। तीसरे चरण में बिहार, पश्चिम बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों के लगभग 215 जिलों में टीकाकरण कैंप लगाया गया।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 2020 से पूरे भारत में सभी बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं का पूर्ण टीकाकरण नियमित तौर पर होने लगेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय का लक्ष्य वैसी सभी बीमारियों को जड़ से खत्म करना है जिनसे सुरक्षा हेतु टीका मौजूद है। पूर्ण टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यूनिसेफ एवं विषय स्वास्थ्य संगठन से सहयोग प्राप्त कर रही है।

Check More – Soil Health Card Scheme

प्यारे पाठक Mission Indradhanush Yojana In Hindi,  Mission Indradhanush details लेख मे हमने इस कार्यक्रम के बारे मे आपको जरूरी जानकारी से अवगत कराने का प्रयास किया है। हमे इस कार्यक्रम से जुड़ना चाहिए और हमारे आस-पास के इलाको मे इसका प्रचार करना चाहिए।

अगर आपको हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने मित्रो के साथ जरूर से SHARE करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *